Skip to main content

From my crying pen #5...



लफ्ज़ हमारे पास होते,
तो बता पाते;
आप क्या हैं हमारे लिए, 
ये दिखा पाते;
वैसे तो लोग कई मिले,
हमे ज़िन्दगी के सफ़र में; 
आप ना आते तो शायद, 
किसी मोड़ पर ठहर जाते… 

हमसे यूँही पूछते ,
तो हम बताते ;
ऐतवार कितना है आप पर,
ये सुनाते;
फिर भी इस बात का इल्म,
आपको होने ना देते;
के आप ना आते तो शायद ,
हम बिखर जाते… 

इस काबिल ही कहाँ थे हम,
जो आपको पाते;
हर दिन आपसे शुरू करते,
हर रात आपमें सिमट जाते;
बिना आपके हर पन्ना खाली है,
ज़िन्दगी का मेरी;
सिर्फ ये बात आप समझते,
तो शायद हम आज भी मुस्कुराते … 

एक इशारा तो करते,
आपके हो जाते;
अलफ़ाज़ ज़रूरी न थे,
हम यूँही समझ जाते;
आपने रोका नहीं इसमे,
खता हमारी क्या है?
आप रोकते तो सही,
हम सारी उम्र रुक जाते… 

Comments

  1. आपने रोका नहीं इसमे,
    खता हमारी क्या है?

    बहुत खूब, बेहद खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
  2. Advanced Merry Christmas & Happy New Year greetings and also Thanks and Smiles:) for ur support till now Dear Blogger Buddy God<3U:)

    ReplyDelete

Post a Comment

"Please leave the footprints, I would love to read your views :) "
( HTML Tags for link, bold, italic and similar can also be used )

Popular posts from this blog

बचपन की पोटरी: किसी की मुस्कुराहटों...!

बात उन दिनों की है जब मैं तीसरी क्लास में थी और भाई दूसरी | हमे स्कूल बस पकड़ने के लिए करीब 200 मीटर चलकर गली से बाहर आना पड़ता था | ज्यादातर मैं और भाई अकेले ही चले जाते थे, पर कोशिश रोज़ होती के पापा हमे छोड़ने आये | कारण था नया नया स्टेट बैंक का एटीएम | याद है पहले हमे उसके अंदर जाने के लिए भी कार्ड स्वाइप करना होता था | जब तक बस नहीं आती हम उसी एटीएम के कमरे में घुस जाते और ऐसे रहते जैसे उन 5-10 मिनट के लिए हम उसके मालिक हों | कभी उसके केमेरे में देखकर अजीब अजीब शकल बनाते और कभी पूरे भारत में एस बी आई एटीएम की लोकेशंस प्रिंट आउट निकाल कर बैग में भर लेते | जब पापा उसमे कार्ड डालते तो राजाओं की तरह उसे पैसे निकालने का आदेश देते | कभी जब खेलने का मन नहीं होता तो हम बस कांच से बहार की दुनिया देखते रहते | जैसे हमारे लिए सब नया हो, जैसे हमे इस दुनिया के हैं ही नहीं | सुबह के सात बजे हमे हमारे छोटे से 5 मिनट के महल में कोई परेशान करने नहीं आता | हाँ महल | वरना ए सी की ठंडी हवा और कहाँ खाने मिलेगी, वो भी मुफ्त !

एक दिन सुबह बहुत ज़ोरों की बारिश हो रही थी | पापा को पिछली शाम बारिश में भीगकर घर…

मेरे पानी वाले बाबा... !

"बाबा आज खुल्ले पैसे नहीं हैं | "
"कोई बात नहीं बिटिया, आज का रहने दो | "
"अरे नहीं बाबा मैं कल दे दूंगी | "

 इतना बोलते ही मेरी बस आ गई और मैं भीड़ के साथ आगे बड़ गई | मैं बाबा का नाम नहीं जानती | ना ये के वो कहाँ से हैं | बस इतना जानती हूँ के वो रजनीगंधा चौक बस स्टॉप पर, २ रुपया में एक गिलास पानी पिलाते हैं | मैंने उनसे कभी पूछा नहीं | हम सब बस स्टॉप पर या तो जल्दी में भाग रहे होते या पसीना पौंछते हुए गर्मी को कोसते रहते, पर बाबा गाना गाकर सबको पानी पिलाते (पानी रे पानी तेरा रंग कैसा... ) | १५ महीने पहले जब बाबा को पहली बार देखा तो लगा के वो पागल हैं | हर शक्श से जा जा कर पूछ रहे थे के उन्हें पानी तो नहीं चाहिए | कोई हाँ करता तो कोई अनसुना कर देता | पर मैं गलत थी | वो हर समय गाना गाते रहते और मुस्कुराकर लोगों से बात करते रहते थे | कभी कोई गुस्से में धुत्कार देता तो अपना गाना गाते हुए आगे बड़ जाते | दिन का १०० २०० रुपया कमाते होंगे, पर पूरी ख़ुशी के साथ | मेरे पास बोतल होती थी हमेशा, फिर भी कभी कभी बाबा से पानी ले लेती थी | शायद कुछ अलग था उस पानी था, शायद …

Chocolate and Me...

This post has been published by me as a part of the Blog-a-Ton 53; the fifty-third edition of the online marathon of Bloggers; where we decide and we write. In association with ​Soulmates: Love without ownership by Vinit K Bansal. To be part of the next edition, visit and start following Blog-a-Ton.
One fine morning, when the sun was bright; I was craving for chocolate, straight from night. I ran to my mother, jumped and gave her kiss, She gave me my chocolate as she promised. I was holding it tight, like the rat in eagle’s claw, Enjoying it thoroughly which my brother had saw. He came with a report card, pretending to whine, Said he’ll give me a bigger one, if I got it signed. I made my way toward the terrace for solace, After giving him my best ‘Do you think I’m stupid face’? I wave a pretentious hello to my despicable neighbor, Smiling at him, is itself a big favor. Besides failing a hundred times, he offered this time straight, ‘I’ll shower you with chocolate if you’ll agree for …