Skip to main content

From my crying pen #4...

When tears roll down my eyes every then and while,

You are the reason,
My wrong decision,
Your fake emotions...

I thought you loved me I gave you my heart,

You took it,
You shook it,
You played and crushed it,


I was waiting for you, thought you will come and heal,

But you all forgot,
You broke my promise knot,
Broken heart was all I got...

But time has changed, I have learned to survive,

I can fake a smile,
Don't need you within 1000 miles,
I know I was just a trail...

Comments

  1. Replies
    1. Why Sad SIS??? Its just a series of thoughts, nothing personal ... :) :) :)

      Delete
  2. Wonderful lines, reflecting out the truth and beauty of falling in ones love...

    ReplyDelete

Post a Comment

"Please leave the footprints, I would love to read your views :) "
( HTML Tags for link, bold, italic and similar can also be used )

Popular posts from this blog

बचपन की पोटरी: किसी की मुस्कुराहटों...!

बात उन दिनों की है जब मैं तीसरी क्लास में थी और भाई दूसरी | हमे स्कूल बस पकड़ने के लिए करीब 200 मीटर चलकर गली से बाहर आना पड़ता था | ज्यादातर मैं और भाई अकेले ही चले जाते थे, पर कोशिश रोज़ होती के पापा हमे छोड़ने आये | कारण था नया नया स्टेट बैंक का एटीएम | याद है पहले हमे उसके अंदर जाने के लिए भी कार्ड स्वाइप करना होता था | जब तक बस नहीं आती हम उसी एटीएम के कमरे में घुस जाते और ऐसे रहते जैसे उन 5-10 मिनट के लिए हम उसके मालिक हों | कभी उसके केमेरे में देखकर अजीब अजीब शकल बनाते और कभी पूरे भारत में एस बी आई एटीएम की लोकेशंस प्रिंट आउट निकाल कर बैग में भर लेते | जब पापा उसमे कार्ड डालते तो राजाओं की तरह उसे पैसे निकालने का आदेश देते | कभी जब खेलने का मन नहीं होता तो हम बस कांच से बहार की दुनिया देखते रहते | जैसे हमारे लिए सब नया हो, जैसे हमे इस दुनिया के हैं ही नहीं | सुबह के सात बजे हमे हमारे छोटे से 5 मिनट के महल में कोई परेशान करने नहीं आता | हाँ महल | वरना ए सी की ठंडी हवा और कहाँ खाने मिलेगी, वो भी मुफ्त !

एक दिन सुबह बहुत ज़ोरों की बारिश हो रही थी | पापा को पिछली शाम बारिश में भीगकर घर…

मेरे पानी वाले बाबा... !

"बाबा आज खुल्ले पैसे नहीं हैं | "
"कोई बात नहीं बिटिया, आज का रहने दो | "
"अरे नहीं बाबा मैं कल दे दूंगी | "

 इतना बोलते ही मेरी बस आ गई और मैं भीड़ के साथ आगे बड़ गई | मैं बाबा का नाम नहीं जानती | ना ये के वो कहाँ से हैं | बस इतना जानती हूँ के वो रजनीगंधा चौक बस स्टॉप पर, २ रुपया में एक गिलास पानी पिलाते हैं | मैंने उनसे कभी पूछा नहीं | हम सब बस स्टॉप पर या तो जल्दी में भाग रहे होते या पसीना पौंछते हुए गर्मी को कोसते रहते, पर बाबा गाना गाकर सबको पानी पिलाते (पानी रे पानी तेरा रंग कैसा... ) | १५ महीने पहले जब बाबा को पहली बार देखा तो लगा के वो पागल हैं | हर शक्श से जा जा कर पूछ रहे थे के उन्हें पानी तो नहीं चाहिए | कोई हाँ करता तो कोई अनसुना कर देता | पर मैं गलत थी | वो हर समय गाना गाते रहते और मुस्कुराकर लोगों से बात करते रहते थे | कभी कोई गुस्से में धुत्कार देता तो अपना गाना गाते हुए आगे बड़ जाते | दिन का १०० २०० रुपया कमाते होंगे, पर पूरी ख़ुशी के साथ | मेरे पास बोतल होती थी हमेशा, फिर भी कभी कभी बाबा से पानी ले लेती थी | शायद कुछ अलग था उस पानी था, शायद …

Chocolate and Me...

This post has been published by me as a part of the Blog-a-Ton 53; the fifty-third edition of the online marathon of Bloggers; where we decide and we write. In association with ​Soulmates: Love without ownership by Vinit K Bansal. To be part of the next edition, visit and start following Blog-a-Ton.
One fine morning, when the sun was bright; I was craving for chocolate, straight from night. I ran to my mother, jumped and gave her kiss, She gave me my chocolate as she promised. I was holding it tight, like the rat in eagle’s claw, Enjoying it thoroughly which my brother had saw. He came with a report card, pretending to whine, Said he’ll give me a bigger one, if I got it signed. I made my way toward the terrace for solace, After giving him my best ‘Do you think I’m stupid face’? I wave a pretentious hello to my despicable neighbor, Smiling at him, is itself a big favor. Besides failing a hundred times, he offered this time straight, ‘I’ll shower you with chocolate if you’ll agree for …